15 फरवरी से 31 मार्च तक नहीं चलेगी वंदे भारत एक्सप्रेस

15 फरवरी से 31 मार्च तक नहीं चलेगी वंदे भारत एक्सप्रेस

नई दिल्ली से वाराणसी तक चलने वाली देश की सबसे आधुनिक और सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस 15 फरवरी 31 मार्च तक नहीं चलेगी। इस दौरान वंदे भारत जगह तेजस एक्सप्रेस को इस रूट पर दौड़ाया जाएगा। हालांकि यात्रियों से वंदे भारत एक्सप्रेस की जगह तेजस का ही किराया वसूला जाएगा।

उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल के मुताबिक, वंदे भारत एक्सप्रेस वर्ष 2019 में चलाई गई थी। इसके रैक को 18 महीने के बाद एक अनिवार्य मेंटेनेंस शेड्यूल के लिए जाना होता है। कोरोना के चलते 6 महीने यह ट्रेन बंद भी रही। वंदे भारत एक्सप्रेस के सिर्फ दो ही रैक हैं। दूसरा रैक नई दिल्ली से कटरा रूट पर चल रहा है, इसलिए इस रूट पर तेजस एक्सप्रेस को भेजा जाने का ही विकल्प है।

15 फरवरी के बाद वंदे भारत एक्सप्रेस रिजर्वेशन सस्पेंड कर दिए गए हैं। बता दें, कि वंदे भारत एक्सप्रेस में ऑटोमैटिक डोर, 360 डिग्री पर घूमने वाली चेयर, लग्जरी टॉयलेट और तमाम ऐसी सुविधाओं के नाम पर रेलवे ने इसका किराया भी शताब्दी एक्सप्रेस से कहीं ज्यादा तय किया था। वहीं, तेजस के 17 कोच होंगे, जिनमें अलग-अलग क्लास के हिसाब से 1176 सीटों पर बुकिंग होगी।

उत्तर रेलवे ने रेल यात्रियों की सुविधा के लिए 8 फरवरी से नई दिल्ली-कालका शताब्दी स्पेशल तथा 10 फरवरी से नई दिल्ली-आगरा कैंट एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू करने का निर्णय लिया है। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक इन दोनों ट्रेन सेवाओं का संचालन प्रतिदिन किया जाएगा। यह ट्रेन यात्रियों को सुरक्षित, सुगम तथा आरामदायक यात्रा का साधन उपलब्ध कराएंगी। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक कोरोना महामारी के चलते सीमित संख्या में चल रहीं रेलगाड़ियों के चलते लगातार इस रूट पर लोगों की भीड़ को देखते हुए इन ट्रेन को चलाने का फैसला किया गया है।